Kundalini Quotes

Rate this book
Clear rating
Kundalini: An untold story Kundalini: An untold story by Om Swami
1,384 ratings, 4.34 average rating, 130 reviews
Open Preview
Kundalini Quotes Showing 1-30 of 83
“Concentration is the act of building focus and meditation is the art of retaining it without losing awareness.”
Om Swami, Kundalini - An Untold Story: A Himalayan Mystic's Insight into the Power of Kundalini and Chakra Sadhana
“If you are able to terminate the thought in your head though, the desire or emotion will disappear like it never existed. This”
Om Swami, Kundalini - An Untold Story: A Himalayan Mystic's Insight into the Power of Kundalini and Chakra Sadhana
“Awakening of the kundalini is realization of your pure abstract intelligence, the type that is not conditioned by your fears, emotions and worries. It is your pristine nature. When you are able to tap into this latent source of energy, you truly become the master of your universe. You can manifest whatever you wish in your life because your scale of consciousness is no longer limited to your body alone; it envelops the whole universe. If”
Om Swami, Kundalini - An Untold Story: A Himalayan Mystic's Insight into the Power of Kundalini and Chakra Sadhana
“Awakening of the kundalini is putting an end to attracting the wrong things in our lives. It begins by feeling and experiencing the completeness and fulfillment within us.”
Om Swami, Kundalini - An Untold Story: A Himalayan Mystic's Insight into the Power of Kundalini and Chakra Sadhana
“When you let your thoughts brew and not abandon them, they become desires or emotions.”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“In everything that we do, we are relentlessly, even if subconsciously, working towards feeling complete. We drink water when we are thirsty; we eat food when we are hungry. In whatever we feel we lack, nature propels us to take action so we may feel fulfilled. Some”
Om Swami, Kundalini - An Untold Story: A Himalayan Mystic's Insight into the Power of Kundalini and Chakra Sadhana
“With each step you make on the path of kundalini sadhana, you unlock a new level of your consciousness. The clarity of your thought begins to improve noticeably. Your memory improves and an inexplicable stillness arises in the body. You feel more grounded, you find it hard to react to other’s criticism, and you begin to maintain an awareness without being affected about what is going on around you. You start to see that your thoughts have started manifesting in real life, they begin to materialize. You are able to attract your desired objects with greater ease. Your sense of individuality starts to find its place in your life, lifestyle and living. You and everyone around you notice a definitive positive change in you. Your imperfections no longer are like the thumb in front of your eye blocking your vision of the bright sun or the glorious moon, instead, they become like the temporary clouds that dissipate on their own. Even your imperfections, like the tiny and twinkling stars add beauty to the universe of your existence.”
Om Swami, Kundalini - An Untold Story: A Himalayan Mystic's Insight into the Power of Kundalini and Chakra Sadhana
“The more we are able to let go, the more we are able to accomplish.”
Om Swami, Kundalini - An Untold Story: A Himalayan Mystic's Insight into the Power of Kundalini and Chakra Sadhana
“ऐसा इसलिए भी है क्योंकि हमें अक्सर अपने-आप से ही भयभीत होने का संस्कार दिया जाता है। हम भूल करने और निर्णय लेने से डरते हैं। हम उचित कार्य करने से डरते हैं और चाहते हैं कि जब हम कुछ करें तो दूसरा हमारे कार्य की पुष्टि करे। भय के मारे, आप अपनी टाँगें पसार कर नहीं सोते, आप हमेशा थोड़े सिकुड़े रहते हैं। कुंडलिनी का स्वाभाविक धाम तो स्वाधिष्ठान चक्र में है पर ये नीचे उतर कर मूलाधार चक्र में पड़ी है। ये दो चक्र काम के केंद्र हैं और लोगों के जीवन में सबसे बड़ा अपराधबोध, उनके यौन संबंधी विचारों और कामों से ही जुड़ा होता है। जब आप अपने-आप को पूरी तरह से स्वीकार लेते हैं और अपने साथ सहज होने लगते हैं तो वहीं से कुंडलिनी का जागरण आरंभ होता है। तब आप उसे ध्यान और मनन के साथ आगे ले जाते हैं। आप इसे इसकी सिकुड़ी और मुड़ी हुई अवस्था से बाहर निकालते हैं और यह पूरी तरह से निर्भीक और स्वीकार्य भाव में आ जाती है। यह सुप्त नहीं रहती। यह जाग्रत और सार्थक हो उठती, यह न केवल आपके सपनों को साकार करने का माध्यम बनती है। बल्कि आपको संपूर्णता का एहसास भी दिलाती है। यही कारण है कि इसे देवी का निराकार रूप कहा जाता है जो स्वयं दैवीय माता से कम दैवीय, कम शक्तिशाली और कम संपूर्ण नहीं है।”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“When you don’t react, a sense of ease arises. Resistance goes away. When you resist something, you have to exert double the force, it is exhausting and demoralizing.”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“आपकी चेतना का दायरा, केवल आपकी देह तक सीमित नहीं रहा; यह सारे संसार पर व्याप्त हो गया है।”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“अपने आसपास की हर वस्तु के साथ एकाकार अनुभव करने लगते हैं, वह महा संयोग, जो सदा आपके साथ बना रहता है। मेरे अनुसार, यही सच्ची समाधि का शाश्वत परमानंद”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“If you can remain indifferent to other’s opinions by thinking they are merely joining letters from the alphabet and offering you a garland, majority of your reactions will disappear. This can only be done with a certain sense of mindfulness as well as stillness of the energies in the body. When your energies are still, others can’t provoke you and if they can’t provoke you, you get the time to think through and choose your verbal and mental responses – both internal and external. The”
Om Swami, Kundalini - An Untold Story: A Himalayan Mystic's Insight into the Power of Kundalini and Chakra Sadhana
“Tantra emphasizes that to rise above anything you have to understand it. When you don’t understand something you suppress it, you deny it, and such denial is your greatest obstruction on the path of awakening. Instead, transform all your negativity and limitations into a potent force that’s focused on attainment of liberation. Tantra recommends that you let everything be at ease so you may examine it, understand it, tame it and transcend it. You should feel bad thinking that you are full of sins. Instead, walk through your sins and go to their root. Someone has to clean the garbage. Ignoring it is not cleaning it. It’ll only sit there and stink. You have to learn to handle everything that exists in you, skillfully, artfully. A”
Om Swami, Kundalini - An Untold Story: A Himalayan Mystic's Insight into the Power of Kundalini and Chakra Sadhana
“एहसास होने लगता है कि आपसे लाखों मीलों की दूरी पर स्थित, कोई छोटा सा भी कर्म भी, कैसे आपको प्रभावित कर सकता है या इसके विपरीत आप उसे प्रभावित कर सकते हैं। यह अंतर्दृष्टि ही मुक्ति का बीज है। तब आप स्वयं को एक स्वतंत्र सत्ता के रूप में नहीं देखते, जो अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रहा हो। यह अपने-आप में मुक्त कर देने वाली भावना है और एक स्थायी प्रकार की गहन शांति व अवशोषण की ओर ले जाती है।”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“सकारात्मकता और दृढ संकल्प के साथ आगे जाने वाले के लिए ब्रह्माण्ड स्वयं मार्ग बनाता है।”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“मूलाधार, ध्यान किए जाने वाले चक्रों में सबसे पहले नंबर पर आता है, तो आपके लिए एकाग्र बने रहने की चुनौती भी हाथी जितनी ही विशाल होगी; यह कुछ ऐसा ही होगा मानो आप हाथी को पालतू बना रहे हों। आपको कुंठित होने या इससे जूझने की आवश्यकता नहीं है, अन्यथा यह आपको कुचल देगा। बस आपको अपनी सजगता और संकल्प के अंकुश के साथ, आगे बढ़ना है।”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“मूलाधाराम्बुजारूढा ‘पञ्चवक्त्रा’ स्थिसंस्थिता, अङ्कुशादिप्रहरणा वरदादिनिषेविता. मुद्रौदना सक्तचित्ता साकिन्यम्बास्वरूपिणी.”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“इस चक्र की ऊर्जा यहीं वास नहीं करती। इस श्लोक में अगला शब्द है, ‘अस्थि-संस्थिता’, यह आपकी अस्थियों में भी वास करती है। और यहीं असली अर्थ छिपा है। मूलाधार चक्र पर ध्यान लगाने से आपकी हडि्डयों की सेहत में सुधार होता”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“अगर आप हार नहीं मानते तो सभी बाधाओं को हार माननी पड़ती है।”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“In the Hindu tradition, Brahma’s job is to create, Vishnu’s role is to sustain and Rudra or Shiva’s job is to terminate. These are the three roles that also tie us down. The desire to create is Brahma Granthi, the desire to hold on is Vishnu Granthi and the desire to get rid of what you don’t like is Rudra Granthi. Respectively, they also represent three major elements of human life: sex, emotions (positive and negative) and destructive thoughts.”
Om Swami, Kundalini - An Untold Story: A Himalayan Mystic's Insight into the Power of Kundalini and Chakra Sadhana
“मूलाधार चक्र पर लंबे समय तक साधना करने से, आप हल्का महसूस करने लगते हैं। आपके भीतर से तुच्छ वासनाएँ और विचार तिरोहित हो जाते हैं और शांति व कल्याण का भाव उदय होता है।”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“मनुष्यों को उनके स्वभाव के अनुसार तीन श्रेणियों में विभाजित किया गया है। वे हैं: दिव्य, वीर व पशु। हालांकि, जब लैंगिकता की बात आती है, तो एक और भाव भी सामने आता है, मनुष्य भाव। कोई भी काम संबंधी कृत्य; दिव्य, वीर, पशु या मनुष्य भाव में ही पूर्ण होता है।”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“संस्कृत के शब्द ‘पाश’ यानी श्रृंखला से पशु शब्द बना है। जो व्यक्ति किसी आदत, विचार या इच्छा की श्रृंखला से बंधा हो, वह पशु है।”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“Gratitude and mindfulness are like chopsticks. You need both to hold the food of temptation. As”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“मनुष्य से अभिप्राय ऐसे व्यक्ति से है, जो मन में आश्रय लेता हो।”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“ऐसा व्यक्ति जो शत्रुओं का दमन कर सकता हो, वह वीर है परंतु सबसे अधिक, जो अपने रचनात्मक द्रव्य (वीर्य) को निखारता है, वही वीर है।”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“You gain enough inner strength and courage to not wear different faces but simply be absolutely comfortable with who you are, what you are and where you are. Only”
Om Swami, Kundalini - An Untold Story: A Himalayan Mystic's Insight into the Power of Kundalini and Chakra Sadhana
“कृष्ण, आधी रात को श्यामल जल वाली यमनुा नदी के किनारे जा बैठते। चंद्रमा की सौम्य किरणें उनकी मुखाकृति, वृक्षों, नदियों आदि पर पड़ती और सब कुछ प्रेम की तरह धीमे-धीमे प्रकाशित हो उठता। प्रेम एक कोमल भाव है, एक सौम्य प्रकटीकरण। वे अपनी बाँसुरी बजाने लगते। उनके विशुद्ध अधरों से निकली दिव्य फूँक से, खोखली वंशी से माधुरी फूट पड़ती। जीवन का संगीत जीवंत हो उठता और प्रेम इसकी धुन पर नाच उठता, सारी गोपियाँ मंत्रमुग्ध हो जातीं।”
Om Swami, Kundalini: An untold story
“वंशी उन्हें उत्तर देती, ‘मैंने स्वयं को रिक्त कर दिया। मैं अपने भीतर कुछ नहीं रखती। मैं किसी चीज़ से मोह नहीं रखती। मैंने पूरी तरह से आत्मसमर्पण कर दिया और अब मैं उनकी इच्छा की चेरी हूँ, उनके कहने से ही बजती हूँ। मैं कभी नहीं बोलती, कृष्ण ही मेरे माध्यम से बोलते हैं।” गोपियों ने भी वंशी की तरह, कृष्ण के आगे आत्मसमर्पण कर दिया था। उनके बीच कोई जलन या ईर्ष्या का भाव नहीं था। उनके बीच कोई मोह या आसक्ति नहीं थी क्योंकि वे जानती थीं कि उन्हें कृष्ण की सेवा करनी है, उन पर स्वामित्व नहीं पाना। वह पशु भाव (वासना पूर्ति), मनुष्य भाव (स्वामित्व), या फिर वीर भाव (रक्षक), नहीं बल्कि दिव्य भाव (मुक्ति) था।”
Om Swami, Kundalini: An untold story

« previous 1 3