Rajesh Bhardwaj

I wonder why the whole episode involving Vivek Dalvi's escape from the hotel warranted such unnecessarily complicated discussion between him and the waiter...why such twisted and complex thinking? Why couldn't the waiter just simply lower a fresh uniform with the help of the rope from the terrace? why did such a simple solution evade the author?

विकास नैनवाल मुझे लगता है वो मौका ही ऐसा था। विवेक दलवी को जब महसूस हुआ की जो वो अपने आप को पुलिस के सुरक्षित महसूस कर रहा था वो उसकी ग़लतफ़हमी थी। इस कारण वो घबरा गया था। और यही हाल उस वेटर का था। वो वेटर आया किसी और काम से था और जब अचानक विवेक ने उससे बाहर निकलने की बात कही तो उसका परेशान होना भी लाजमी था। इस माहौल में उनका उस निर्णय में न पहुँच पाना लाजमी था। मेरे हिसाब से ऐसे हालात में उनका एक साधारण निर्णय न लेना उनकी nervousness को दर्शाता है।
Image for चेम्बूर का दाता
Rate this book
Clear rating

About Goodreads Q&A

Ask and answer questions about books!

You can pose questions to the Goodreads community with Reader Q&A, or ask your favorite author a question with Ask the Author.

See Featured Authors Answering Questions

Learn more