Jump to ratings and reviews
Rate this book

आपका बंटी

Rate this book

207 pages, Paperback

First published January 1, 2009

Loading interface...
Loading interface...

About the author

Mannu Bhandari

41 books55 followers
Mannu Bhandari was born on April 3, 1931, in Bhanpura, Madhya Pradesh, India. She attended school in Ajmer and later she graduated from Calcutta University in 1949, followed by an M.A. degree in Hindi from the Banaras Hindu University in 1953.
She is wife of famous Hindi writer Rajendra Yadav, with whom she co-wrote the book, Ek Inch Muskaan (A Little Smile).

In post independent Hindi literature many new women writers emerged
and attracted the attention of readers and critics but after initial shining some
of them did not make writing of their successful career. Many women writers
have entered the arena of literary writing. Several highly talented writers have
enriched Hindi literature with their creative writings. To name a few Usha
Priyamvada, Malti Joshi, Dipti Khandelwal, Mridila Garg, Mannu Bhandari,
Shubha Verma are some of the most accomplished contemporary Hindi
women writers. Their writing reflect how modernism, contemporary social
situations and currents and cross currents at life have molded their writing and
subject matter as well as impact on them. Moreover these women writers
have written about Indian women, their pains, conflicts, predicaments against
the background of contemporary India. They have focused their attention not
only on the outer situation and conflict but also on inner turmoil of modern
women. In this reference writer like Mannu Bhandari deserves special
attention. Her contribution to the world of fiction dates to the 6os. She has
written in and experimented with varieties of genres of literature like the short
story novel, political novel, literature for children, drama, screen play, and
dialogues for film etc. Mannu Bhandari has also chaired the directorship of
Premchand Srujanpith in Vikram University, Ujjian. In 2008 Mannu Bhandari
was given for her autobiography Ek Kahani Yah Bhi the prestigious Vyas
Sanmaan for year 2008, which is instituted by the K.K. Birala Foundation and
given every year for outstanding literary work in Hindi authored by Indian citizens.

Ratings & Reviews

What do you think?
Rate this book

Friends & Following

Create a free account to discover what your friends think of this book!

Community Reviews

5 stars
302 (59%)
4 stars
153 (30%)
3 stars
37 (7%)
2 stars
10 (1%)
1 star
6 (1%)
Displaying 1 - 30 of 72 reviews
Profile Image for Gorab.
599 reviews91 followers
January 9, 2017
Brilliant narration.
A very emotional story of a 8 year old kid whose parents are separated but he doesn't understand the concept of divorce.
Laugh out loud moments in the beginning where you get to see the world from a kid's point of view.
Heart wrenching moments when a kid has to chose which of the parents he loves more? And who loves them back more? Only to realise they are using him as a weapon to hurt each other more :(
And how that impact the psychological balance of the poor kid.
Very much recommended to all the parents.
Read this with my wife and she cried a lot during the latter part of it... and I did cut some onions to give her company!
Profile Image for Rosh.
1,293 reviews1,003 followers
April 13, 2021
Aapka Bunty by Mannu Bhandari, was first published in 1971. Considering its storyline, I feel that it must have been a milestone book in that era. While Amrita Pritam's Ek Khaali Jagah also dealt with remarriage, its approach was still quite traditional as it involved a widowed man getting remarried to a young single girl. So this book, which views the topic from a divorced female perspective, offers a novel insight into the mentality of those days.

Aapka Bunty comes to us from two perspectives. Most chapters come to us from the voice of a little 8-9 year old boy named Arup, lovingly called Bunty. His parents stay in separate houses and he initially doesn't know why as he's used to the routine of being with his mother and getting casual visits and gifts from his father. His friend reveals to him the shocking truth that his parents are divorced. But with his mom having different plans for their future, his routine life soon turns topsy turvy.

Bunty is a boy divided across three families: his original family, his mother's new family, and his father's new family. No one seems to bother about what Bunty wants and about speaking with him regarding the various family decisions. He is a sensitive boy who loves gardening. And I found this choice of hobby ironic because it stresses the importance of nurturing a sapling and making sure it takes root under good conditions, both of which are missing in Bunty's life. He has insecurities over various things and cries easily, both of which are labelled nonmasculine qualities by the men in his life. You really end up feeling sad for Bunty.

The second pov in the book is that of Bunty's mom Shakun, who gets a couple of chapters to voice her thoughts. She works as the principal in a nearby college. She's modern, independent and very caring about her son. At the same time, she faces multiple emotional tangles: there are some well-meaning family friends who comment about Bunty's growing up without a male influence, there is an envious feeling of seeking retribution because her ex-husband has already remarried, there are stares from neighbours when she begins dating a widowed doctor named Joshi. You can already see that Shakun isn't your typical traditional Indian female lead character. The chapter that contains "Justifications" and "Confessions" brings out Shakun's character in the most realistic way.

As the story progresses, the tangles in Shakun's life and the uncertainties and insecurities in Bunty's life go on increasing and you stay hooked until the author brings the drama to a close but not to a conclusion. Mannu Bhandari keeps the dramatic narrative moving ahead at a fairly steady momentum. There are a lot of thoughts voiced from both the protagonists, and these thoughts reflect human behaviour in a straightforward and honest way. While there are a lot of lessons to be learnt from the book even today, the most important idea it brings out is the importance of keeping children in the loop when you are making plans for your future. Communication is always important and most of Bunty's insecurities stem up from not knowing how his life is going to progress. Though the ending was a bit disappointing to me, the book was still an engrossing read.

Mannu Bhandari is said to be one of the leading names in the "Nayi Kahaani" movement of the 1950s-60s, which stressed on stories about social transformations, gender inequalities, and urban industrialization rather than the older village & value based narratives. And after this book, I understand why she has such a stellar reputation.

On an aside, on the 3rd of April this year, she turned a rocking 90 years young!



***********************
Join me on the Facebook group, Readers Forever! , for more reviews, book-related discussions and fun.

Follow me on Instagram: RoshReviews
Profile Image for Saumya.
182 reviews833 followers
November 6, 2020
In this Hindi Novel, 7 year old Bunty's parents have gotten divorced and at this tender age, Bunty doesn't realise the gravity of the situation. This child has to bear the brunt of his parents' separation. And it's not only Bunty who suffers, the challenges faced by his parents are also plenty. The reader really feels for the characters, especially Bunty. It really puts into perspective that when two people with different ideologies marry, it ends up creating a mentally and emotionally traumatic situation.
Profile Image for Amit Tiwary.
43 reviews8 followers
November 17, 2018
आधुनिक समय के महत्वाकांक्षी लोगों और उनके बीच बने अनन्वेषित और अभूतपूर्व तरह के रिश्तों और जनित मनोविज्ञान की बारीकी से पड़ताल करती ये क़िताब हमें उस हिस्से पर ध्यान दिलाती है जहाँ लोग सबसे कम जा पाते है.. बच्चे.. टूटते-बनते रिश्तों और निजी उपलब्धियों से पैदा हुए अहं के बीच पिसते बच्चे.. इस उपन्यास ने जितनी बारीकी से बच्चों की मानसिक स्थिति और चेतना पर अभिभावकों के ईगो क्लैश और उनके रिश्तों पर पड़ते सामजिक असर का निरिक्षण और वर्णन किया है, वो कल्पनातीत है.. सभी वयस्कों के लिए एक बेहद जरूरी उपन्यास..!
14 reviews2 followers
March 2, 2014
Mannu Bhandari is one of my most favorite writers. I read this book first time when I was only seventeen. This was may be my seventeenth time. Still I could not put down the book in between and could not stop my tears and feeling utterly helpless in not being able to help Buntis of the world.

I recommend this book to every adult who has children or who wants to have children in future. To understand that children are not your properties, They are not your weapon against your ex.

They are as sensitive and thinking person as you are. They are young so they dont know how to process their pain and agony. They think they have caused you pain but cant absolve themselves from being accused for the pain caused to you and your spouse due to the separation or divorce.

Love them, listen to them and be there for them always. Once you have children, you try to help and protect them and not vice versa.

Happy Reading.
Profile Image for Madhulika Liddle.
Author 15 books384 followers
June 15, 2021
Eight year old Aroop 'Bunty' Batra has lived for the past seven years with his mother Shakun, following Shakun's separation from her husband, Ajay, who now lives in Calcutta. Shakun is a college principal, and the home mother and son occupy is idyllic, with Bunty having nurtured a fine garden, Shakun and Bunty spending all their time together, Bunty pampered and fed a steady diet of love, affection, and lots of fairy stories by his Mummy and by Phupi, the maid. Every few months, Ajay comes to visit, and Bunty is pampered some more for that one day when he's with his Papa.

Until one day, when a visitor, a good friend of Ajay's, comes from Calcutta bearing news. Ajay, who had remarried, is going to be a father again, and would like his and Shakun's divorce to be finalised. With that, Shakun too realizes that the relationship is finally at an end; there is no going back.

What happens when Shakun decides to move forward too, is what Aapka Bunty is all about. Seen primarily from the point of view of Bunty himself, this is a brilliant study of human nature, of selfishness and loneliness, of manipulation and love. The way we treat others, even those we genuinely love; the way others treat us, and how perceptions play a part in our behaviour. Seen through the eyes of a child, too young yet to be independent but old enough to understand some things (and to guess at others), the world of adults and their machinations comes across so vividly, so heartbreaking in its self-centredness.

I have never read anything by Mannu Bhandari before, at least not in novel form. But after reading Aapka Bunty, I definitely want to read more of her writing. This story blew me away; Ms Bhandari's depth of understanding, the way she manages to bring out the nuances of life, her sensitivity and the little details of what makes up a child's life... all were unforgettable.

Highly recommended.
December 30, 2018
"जब एक बार धुरी गड़बड़ा जाती है, तो ज़िन्दगी ही लड़खड़ा जाती है"

इस मार्मिक उपन्यास की यदि कोई टैग लाइन हो सकती है मेरे अनुसार, तो वो यही लाइन होनी चाहिए।

कथानक दिल के करीब से होकर गुज़रा।
एक बच्चे के नज़र से उसकी पूरी दुनिया यानि कि उसके माता और पिता दो हिस्सों में बंट जाते हैं, लेकिन वो पूरे कथानक के दौरान एक प्रोब्लेमेटिक बच्चा बन कर रह जाता है।
समस्याएं और प्रश्न ऐसे, जो आज के समाज में आम हैं।
एक स्वतंत्र अस्तित्व खोजती स्त्री के लिए उसकी महत्वाकांक्षाओं और उसकी औलाद के बीच पनपती एक दरार को खाई बनता दिखाता हुआ उपन्यास है -"आपका बंटी"
उपन्यास कोई सुझाव नहीं देता, बस चुपके से हर पिता , हर माता के मन की नब्ज़ को टटोलता है। आपका बंटी में अरूप बत्रा यानि बंटी अपने बत्रा सरनेम को अस्तित्व से जुड़ा महसूस करते हुए भी पूरी बत्रा फैमिली का मेम्बर नहीं बन पाता, न उसे कोई स्वीकार कर पाता है।
बंटी त्रिशंकु स्थिति में जीता हुआ एक पात्र है जो उम्र के पहले परिपक्व न होते हुए भी उलझनों का शिकार बन जाता है। गलती उसके माता पिता को देना भी सही न होगा क्योंकि हालात कभी सम्भलने का मौका नहीं देते । यहाँ परिस्थितियां बनती हैं और उन का शिकार हर पात्र अपनी भूमिका से न्याय/अन्याय करता है।
आखिर सन्तोष करना पड़ता है कि जीवन में सब कुछ मनचाहा ही तो नहीं मिलता।
भाव शिल्प सब इतना सुगठित है कि सब पात्र यहाँ तक कि घर के नौकरों तक के संवाद मन में ख़लल मचा देते हैं।
सरल और आम शहरी भाषा है, इसलिए आसानी से ग्राह्य है

यदि कोई शादीशुदा कपल जिन्हें औलाद हो, जिनमें साथ रहने की कुंठाएँ हों, और जो अपने अपने ��हम में टकराव के चलते सम्बन्ध-विच्छेद चाह रहे हों, उन के लिए अमूल्य अप्रत्यक्ष कॉउन्सलर जैसा है
'आपका बंटी'

यहाँ धुरी भी बंटी है, और ज़िन्दगी भी बंटी की है। शब्द दर शब्द लड़खड़ाते हैं, उलझ जाते हैं, बिखर जाते हैं अरमान, उम्मीदें और सपने, बंटी के ही।
Profile Image for Neha Sharma.
36 reviews9 followers
November 21, 2016
"बस चली तो सबके बीच हँसते-बतियाते उसे ऐसा लगा जैसे सारे दिन ख़ूब सारी पढ़ाई करके घर की ओर लौट रहा है।तभी ख़याल आया-धत् वो तो स्कूल जा रहा है।"


कुछ भावनाएँ ऐसी होतीं हैं जो आप अंदर तक महसूस तो करते हैं,लेकिन उन्हें कह पाना मुश्किल होता है..बस कुछ इसी तरह का अनुभव रहा "आपका बंटी" पढ़ने का।पहली रात से शुरू करके अगली दोपहर तक पढ़कर ख़त्म कर ली थी लेकिन पिछले तीन दिनों से लाख सोचने के बाद भी समझ नहीं आया कि इसके बारे में क्या लिखा जा सकता है?..यही नहीं इससे भी कहीं ज़्यादा उलझाने वाले सवाल सामने आ खड़े हुए हैं..इसे पढ़ने के बाद अपने आसपास ना जाने कितने ऐसे बच्चे..ऐसे लोग नज़र आने लगे हैं,जो कहीं ना कहीं इस तरह की ही स्थिति से जूझ रहे हैं और शायद जूझते रहेंगे,क्यूँकि समाज,परिवार और आसपास के लोग उन्हें कभी समझ ही नहीं पाएँगे।

मन्नू भंडारी ने शुरुवात में ही लिख छोड़ा है कि अगर बंटी के हालात पर पाठकों की आँखें नम हों,तो वो ये समझेंगीं कि ये ख़त ग़लत पते पर पहुँचा है..आँखें नम तो हुईं लेकिन साथ ही एक गहरी टीस भी उठी..परिस्थितियाँ चाहें अलग-अलग हों पर बीत तो वही रही है कईयों के साथ।मन्नू जी ने भले ही इस उपन्यास को बंटी के नज़रिए से पेश करते हुए लिखा है और साथ ही उसकी माँ शकुन का पक्ष भी रखा है..लेकिन फिर भी पढ़ते हुए शकुन का पक्ष मुझे बंटी के सामने कम ही लगा..जिस पल से बंटी माँ की ख़ुशी के लिए सवालों की जगह ख़ामोशी अपनाता है..वहाँ से ही वो साथ जुड़ जाता है..बीच की कई घटनाएँ जहाँ बंटी को चोट पहुँचातीं हैं तो उसकी मौन संवेदना सीधे वार करती है..आख़िर में आकर जहाँ और जानने की इच्छा बाक़ी रह जाती है वहीं एक कसक ये भी रह जाती है कि काश बंटी को एक साथ मिल जाए।
December 15, 2019
सम्वेदना को इतनी सूक्ष्मता से सटीक ढंग से भी लिखा जा सकता है इसका प्रमाण इस क़िताब ने दिया. और किताबें कहानियाँ कहती हैं, ये किताब जैसे कहानी नहीं पूरा का पूरा बीता हुआ यथार्थ है. जैसे सब घट रहा है और आप चुपचाप मूक दर्शक की तरह सब देख रहे हैं, जी रहे हैं. सब जानते हुए भी कुछ कर नहीं सकते. फ़िर याद आता है कि ये ही तो जीवन है मेरा, आपका, सबका. बंटी की तरह.
Profile Image for विकास 'अंजान'.
Author 5 books33 followers
March 6, 2014
४.५ /५
एक भावुक कर देने वाला उपन्यास । जब दो व्यक्ति शादी के बंधन को तोड़कर अलग होने का फैसला लेते हैं तो किस तरह ये फैसला उनके बच्चों पर असर डालता है , यही इस उपन्यास में लेखिका ने दर्शाया है । मन्नू भंडारी जी कि यह कालजयी रचना सभी को पढ़नी चाहिए ।
Profile Image for Aradhya.
78 reviews4 followers
January 1, 2022
Because Mannu bhandari is one of my favorite authors of all time, I picked up this book without reading about its plot at all. Aapka Bunty is about a kid whose parents are separated and now getting divorced to get married to other people.

Mostly the book is written from Bunty's perspective only, so we see exactly what goes on in his mind in every incident. The most heartbreaking thing about what's happening to Bunty is, all this could have been prevented if his parents understood him.

On a side note, the book was written in 1971 originally. But just like any other story by Mannu Bhandari, it's timeless. Because the way people react to changes never changes.
Profile Image for Divya Pal Singh.
458 reviews51 followers
January 19, 2023
Poignant tale of an innocent child buffeted around according to the whims and egos of his divorced parents. His small world is shattered as he faces the life-changing events in his short life in incomprehension. His home and his surname are changed.
Strangely, there is no specific word for divorce in Hindi – the concept does not exist in Hinduism.
The author, in contrast to say, Shivani, writes simply Hindi.
230 reviews27 followers
March 18, 2015
Brilliant. Warning: may leave you depressed and in tears.

Among the books I have read till now, I feel that Indian English fiction hardly deals with such social issues that novels like Aapka Bunty (divorce & kids) and Saara Aakash (joint families breaking apart) deal with. Perhaps because the English scene has only come into its own in past 20-25 years thus missing on the crucial decades before and after independence when the society was in a huge churn.

Or may be I've not yet read enough. Suggestions welcome.
Profile Image for ऋचा.
112 reviews8 followers
November 5, 2018
बच्चों के हृदय में उठते बवंडर कहाँ हम बड़ों को दिखते हैं! नन्ही-सी उम्र, जब दिखता सब है, अनुभूत सब होता है पर समझ न पा सकने के कारण सब बोझ बनता जाता है। न स्वयं के अन्तः में ही बसी सभी भावनाओं से परिचय होता है, न बड़े-बड़े गहरे-अर्थवाले शब्द पता होते हैं। कहाँ कभी कोई रुककर बताता है कि किसी बात के मायने क्या हैं। कितना कठिन है बच्चा होना! माता-पिता के विच्छेद के मध्य पिसते बंटी कि कहानी को मन्नू भण्डारी जी ने जिस तरह प्रस्तुत किया है वह हृदय को भेदने वाला है। अत्यंत कटु, अत्यंत मर्मभेदी, अत्यंत सराहनीय पुस्तक।
24 reviews
April 19, 2022
कहने को ये एक बाल मनोविज्ञान की कहानी है पूरी कहानी एक बच्चे के नज़रिये से कही गयी है लेकिन जब आप इसको पढ़गे तो आपको ये कहानी एक स्त्री के नज़रिये दिखाई देगी एक माँ के नज़रिये से भी दिखाई देगी और माँ और औरत के बीच की रस्सा कशी में बच्चा पीस के रह जाता तो कहानी कुछ ऐसे चलती है क़ि अरूप बत्रा class ३ का student है जिसकी मां शकुन प्रिंसिपल है। और अजय और शकुन अपनी शादी में सामंजस्य नहीं बिठा पते हैं इसलिए बहुत वक़्त से अलग अलग रहते हैं। दोनों में ईगो इतना ज़्यादा है की कोई भी झुकने को तैयार नहीं चाहे बच्चे की ज़िन्दगी ही बर्बाद हो जाये। दोनों एक दूसरे से बदला लेने के मौके की तलश में रहते हैं और फूटी आँख एक दुसरे को देखना पसंद नहीं करते। इधर बंटी की मां ज़्यादतर दुखी और अकेलेपन में पड़ी रहती है। दुखी उदास। जिसका असर बंटी पर पड़ना शुरू हो जाता है finally अजय तलाक के लिए पेपर्स भेज देता है उसके बाद शकुन को ये अहसास होता है कि वो सिर्फ माँ नहीं एक स्त्री भी है और उसकी डॉ जोशी से नज़दीकियां बढ़ने लगती हैं फूफी इस बात पर घर छोड़कर हदिद्वार चली जाती है। अब बंटी पूरा अकेला हो गया। शकुन डॉ जोशी से शादी करके उनके घर चली जाती हैं जहाँ बंटी उनके दो बच्चों के साथ adjust नहीं कर पता हलाकि डॉ साहब कोशिश अपनी तरफ से पूरी करते हैं लास्ट में अजय बत्रा आकर बंटी को अपने साथ कलकत्ता ले जाते हैं जहाँ उसका एडमिशन वो हॉस्टल में करवा देते हैं। हमारे समाज में बहुत सारे बंटियों की कहानी है .ये नाव���ल बहुत शानदार है ये आपको एंटरटेन नहीं करेगा ये आपको इमोशनल कर देगा जो दुर्गति इसमें बच्चे की हुई है जो कश्मकश में शकुन रही है ये कहानी आपको समझने नहीं देती कि आखिर गलती किसकी है शकुन भी अपनी जगह सही थी माँ के साथ साथ वो औरत भी है उसका अकेलापन उसकी चाहतें उसके भी सहारे के लिए कोई चाहिए ज़िन्दगी बिताने के लिए प्रेम तो चाहिए ही। अजय ने भी मीरा का साथ पकड़ लिया। दोनों के रिश्ते का कोई भविष्य नहीं था ये आधुनिक सोच ही है कि जब श���दी ठीक से नहीं चल रही कोई कोम्प्रोमाईज़ करने को नहीं तैयार है तो तलाक ही रास्ता बचता है। abusive marriage में रहने का क्या तुक है ?दोनों अपने अपने जीवनसाथी चुन कर अपना अकेलेपन मिटा देते हैं अकेला रह जाता है बंटी।
फिर डॉ साहब को लेते हैं वो एक सुलझे हुए इंसान लगे मुझे। और शकुन खुद इतनी insecure confused और डरी हुई थी कि उसको लगता था डॉ साहब उसको वैसे नहीं रखते या वो बात नहीं आ सकती जैसे वो प्रेम करती है या अजय प्रेम करेगा। किसी भी रिश्ते में एडजस्ट होने के लिए टाइम लगता है और मुझे लगता है बंटी और डॉक्टर जोशी के रिश्ते को थोड़ा और टाइम देने की ज़रुरत थी क्योंकि बंटी और शकुन दोनों जानते थे कि बंटी ये काम सिर्फ शकुन को सजा देने के लिए कर रहा है फिर भी शकुन चुप रही
He did not want to go but shakun let ajay took him.
तो ये कहानी इमोशनल करते हुए एक लर्निंग दे जाती है कि ईगो से बड़े रिश्ते होते हैं। और अगर आप घर में बच्चे को सुखी खुश माहौल नहीं दे सकते तो बच्चे ही मत कीजिये। शादी के बाद 3 - 4 बिना प्रेगनेंसी प्लान किये रहिये इतने साल में कुछ अंदाज़ा हो ही जाता है कि एक दुसरे को बर्दाश्त कर पाएंगे या नहीं। बाकि अपवाद तो हर जगह होते हैं

Profile Image for Ved Prakash.
186 reviews22 followers
February 7, 2018
आपका बंटी
*****
मन्नू भंडारी जी का लिखा हुआ कालजयी उपन्यास है । हर व्यक्ति को, खासकर पेरेंट्स और युवा पीढ़ी को, ये पढ़ना ही चाहिए। टूटते परिवार में बच्चों की स्थिति का मनोवैज्ञानिक और सामाजिक चित्रण किया गया है।

एक 8 साल के बच्चे कि कहानी है या फिर उसकी माँ की या पिता की या फिर किसी एक घर या पात्र की कहानी न होकर हमारे समाज में बिखरते हुए हर घर की कहानी है।

बंटी के माँ-पिता अलग रहते हैं। बंटी माँ के साथ रहते हुए भी हर पल पिता को मिस करता है ....

माँ , जो की कॉलेज में प्रिंसिपल हैं, भी घुटती ही रहती है और कहीं-न-कहीं बंटी को पति से बदला लेने का एक साधन ही समझती हैं।

बंटी के पिता दूसरी शादी कर लेते हैं और इधर माँ भी दूसरी शादी कर लेती हैं ...

दूसरी शादी क्या बस शारीरिक और मानसिक जरुरत के लिए या फिर साथ-साथ अहम् की तुष्टि के लिए भी !!

दो नए जीवन की शुरुआत के लिए बना हवन कुण्ड में बंटी के जीवन की आहुति दे दी जाती है।

बंटी माँ के नए परिवार में एडजस्ट नहीं कर पाता ... अब उसे अपनी ही माँ अपरिचित लगती है। माँ भी बंटी की हालात देख घुटती रहती है। उधर बंटी के पिता को पता चलता है कि उनकी पहली पत्नी ने दूसरी शादी कर ली तो बंटी को खुद के पास लाना चाहते हैं ... बंटी के लिए या अपनी संतुष्टि के लिए !!

इधर बंटी भी माँ से बदला लेने के लिए पिता के पास जाना चाहता है।

बंटी के पेरेंट्स बंटी को मोहरा बना कर एक दूसरे से बदला लेते हैं तो बंटी भी खुद को हर्ट कर और एक को प्रेफर कर दूसरे से बदला लेना चाहता है - यानि कि खंडित-निष्ठा ही उसकी नियति बन जाती है।

इस बदला लेने के प्रोसेस में बंटी ही पिसता जाता है।

लेखिका ने खुद ही कहा है कि उन्होंने किसी भी पात्र के साथ कम या ज्यादा सहानुभूति नहीं दर्शाई है - गलत और सही अगर ��ोई हो सकते हैं तो वे उनके(पात्रों के) आपसी सम्बन्ध।

लेखिका ने ये भी कहा है कि अगर इसे पढ़ कर पाठक सिर्फ अश्रुविगलित होते हैं तो ये बुक गलत हाथ में पहुंची है। उनके हिसाब से बंटी की यह यात्रा भावुकता, करुणा से गुजरकर मानसिक यंत्रणा और सामाजिक प्रश्नाकुलता की है।

Profile Image for Rajul.
187 reviews1 follower
January 12, 2022
A tragic and heartwrenching tale of a 11 year old boy who is torn between his parents because of their divorce.

When they both remarry, he finds himself unable to fit into any of the units with no sense of belonging to either of them.

We can't protect children all the time from the harsh truth. But we can sure take our time to acclimatize them. We need to prepare them better for the upheaval in their life. Ajay and Shakun (the parents) were so caught in their own lives, Shakun in her own grief that they discounted the feelings of their child. I also have a pet peeve against fairy tales and other folk tales where they portray step mothers negatively. It leaves a lasting impression on the kids mind. If we are retelling the stories, we should definitely think about this.

I had read the Gujarati translation decades ago. I think I didn't know / realise that it was a translation. The impact of the story was such that it was still fresh in my mind.
Profile Image for अभय  कुमार .
23 reviews5 followers
December 15, 2019
आप जब बंटी की यह कहानी पढ़ रहे होंगे। यकीन मानिए आप पढ़ नहीं रहे होंगे, आप सिर्फ पढ़ ही भी नहीं सकते। आप इस कहानी को जी रहे होंगे, महसूस कर रहे होंगे। आप बंटी की पीड़ा के ज्वार को कहीं न कहीं अपने अंदर उठता हुआ महसूस कर रहे होंगे। इस पुस्तक की लेखिका मन्नू भंडारी जी ने एक उपन्यास नहीं एक एहसास की रचना की है। जो आपको मार्मिकता की चरम सीमा की अनुभूति कराएगा।
Profile Image for Rohini Biswas.
48 reviews2 followers
October 26, 2022
ऐसा कभी-कभी होता है कि कोई किताब आपको इतना बांध ले कि उसके ख़त्म होने के बाद भी आप उसकी दुनिया से बाहर न आ सकें, और वो दुनिया काल्पनिक होते हुए भी आपको वास्तविक लगे!

मन्नू भंडारी जी की लिखी 'आपका बंटी' एक ऐसी ही किताब है, जिसमें बंटी नामक प्रायः दस वर्षीय एक ऐसे बच्चे की कहानी है जिसके माता पिता विवाह विच्छेद के बाद अलग हो गए हैं और दोनों ने अपनी-अपनी नयी दुनिया बसा ली है; लेकिन विडम्बना यह है कि ये दोनों दुनिया ही बंटी के लिए अपरिचित है, अजनबी है और इनका हिस्सा होते हुए भी वह 'कहीं का नहीं' के बोध से घुला जा रहा है.

सम्बन्ध कैसा भी हो, टूटने पर दर्द होता है और उस टूटे सम्बन्ध के टुकड़े कांच की तरह चुभते हैं. लेकिन जब पति-पत्नी का सम्बन्ध टूटता है उनके बीच का पुल- बच्चे- धराशायी हो जाते हैं. कुछ-कुछ समझने और कुछ न समझ पाने की उधेड़बुन में कब बच्चा अपना बचपना खो देता है ये समझ पाना कठिन है.

आपका बंटी इसी उधेड़बुन की कहानी है. मानवीय भावनाओं की गहरी समझ और अपनी सरस अभिव्यक्ति से मन्नू जी पाठक के ह्रदय पर वार करती हैं और उसे कचोटते हुए कई-कई बार कई-कई मूक प्रश्न कर जाती हैं जिनके उत्तर हैं भी और नहीं भी.

मैं इस उपन्यास के बारे में जितना कहूँ कम है. मेरी गुज़ारिश है कि हिंदी साहित्य में रुचि रखने वाले लोग ये उपन्यास अविलम्ब पढ़ें और अपनी प्रतिक्रिया भी दें. मुझे विश्वास है आपको अपनी आशा से ज़्यादा ही मिलेगा.
July 10, 2021
माँ-बाप तलाक लेने के बाद पुनः शादी करके अपने जीवनसाथी की कमिपूर्ति तो कर लेते है, लेकिन उनके बच्चों को सारी जिंदगी दुविधा और मानसिक क्लेश में बिताना पड़ जाता है। वे अपनी सौतेली माँ में अपनी माँ और सौतेले पिता में अपने पिता को नही ढूढ पाते।
5 reviews
May 2, 2022
आपका बंटी कहानी एक बच्चे की नहीं बल्कि उसके साल के मन की है। ये सफ़र है बंटी का की कैसे वो उछलता, कूदता, डाँट खाता, पौधे लगाता और अपनी ममी के नए रूपों को देखता बंटी एकदम से शांत बंटी में बदल जाता है! वो बंटी जो हर बात को सवाल करता था, वो अब कुछ पूछता नहीं, कुछ कहता नहीं और ना ही अब किसी भी सवाल का उत्तर देता है। ये कहानी लिखी बहुत ही अच्छे तरीक़े से गयी है। एक एक लाइन में हज़ारों भावनायें है! बच्चों का मन में कैसे कैसे सवाल आते है और कैसे उन्हें समझना चाहिए, ये मन्नु भंडारी जी से अच्छा कोई समझा नहि सकता था! जैसे डॉक्टर जोशी पापा नहीं है, पापा सिर्फ़ पापा है, ममी ही ममी है और वे सिर्फ़ वे! कैसे हर बदल��व अच्छा नहीं होता और हर तरह का बदलाव हमें भी पूरी तरह बदल देता है! फूफी जब है तो उनका डाँटना अच्छा नहीं लगता, फूफी नहीं है तो रोना आता है! बंटी के मन की व्यथा और उसके नन्हे से मन की बेबसी पढ़कर बहुत दुःख होता है!
Profile Image for Ayush Jain.
59 reviews1 follower
May 23, 2016
I started this book at a very slow pace as I enjoyed the slow rising of the curtains from the story. I really liked the way author has portrayed the world from the eyes of Bunty and the way very small incidents as well have been detailed. Some small incidents may remind you of childhood. Overall, I liked the story because the situation itself seems to be the culprit for whatever happens in the story and no one else. No, this is not a spoiler, you can read it afresh :)
Profile Image for Koko.
3 reviews
Read
November 18, 2021
An amazing story of emotional juggernaut, bunty passes through when his parents are getting divorced and find new partners fr themselves while leaving him all alone with lots if questions but no solid answer.
Must read
Profile Image for Pooja Tripathi.
31 reviews12 followers
March 8, 2017
A heartbreaking tale about how a child's psychology is shaped by parent's separation
4 reviews
September 21, 2018
Heart-rending and poignant description of events in the life of a child of separated/divorced parents, primarily from the child's perspective
Profile Image for Khyati.
96 reviews1 follower
June 22, 2022
Now I know why she is called The Mannu Bhandari !!

This novel is perfect, nothing can beat the writing.

Aroop Batra aka Bunty is an 8-year-old child living with his mother and Phupi (housemaid), he is happy listening to stories, taking care of plants, painting and playing with his friend Titu. Bunty’s parents are separated which he doesn’t know nor does understand what it means but is content with occasional visits from his father who comes bearing gifts every time. Bunty’s pleasant and carefree world is shattered when he comes to know about the divorce and entry of new partners in each of his parent’s lives. This sudden and massive change gradually becomes unbearable for him. This masterpiece in an emotional journey of an innocent who is forced to grow up beyond his age.

The story is narrated alternatively by Bunty and his mother (Shakun, Principal of a college), each one trying to understand their emotions and justifying their actions accordingly. The depiction of an idle childhood, everyday routine and psyche of a child is a sign of phenomenal writing. Whenever the author uses the storyline and characters from fairy tales to convey Bunty’s emotional state is the perfect example of “Creativity at its best.”

The scenes where Phupi leaves for Haridwar, Bunty running back to his childhood home, his happiness on meeting maali kaka (gardener), searching the entire house to find something that reminds of his childhood home and constantly observing the changes in his mother’s behavior are painful but crucial to understand his state of mind. The novel paints a dainty picture of a child who is too innocent to comprehend the reasons for leaving his childhood home, need of befriending new people and consistent pressure to prove his existence. Amidst all this, Shakun understands but is helpless. She is not able to interpret Bunty’s actions neither able to find a solution.

The author doesn’t blame anyone for Bunty’s or Shakun’s condition but makes the reader aware of what goes behind a child’s mind and how its reflected in the actions. Her in-depth understanding and portrayal of an insecure human mind is flawless, without losing the sensitivity.

Bunty’s possessiveness and outraged behavior towards her mother is something I could connect with instantly.

English translation is also available, yet would recommend to read in Hindi.
Profile Image for Shaambhavi.
32 reviews11 followers
September 30, 2021
मन्नू जी की इस पुस्तक के बारे में बहुत सुना था और काफी दिनों से पढ़ने की आकांक्षा थी, जो कि आज जाकर पूरी हुई. मर्मस्थल को छू लेने वाली यह कहानी एक किसी ममी, पापा, उनकी कुट्टी और इन सबके बीच फंसे हुए बंटी की नहीं है, बल्कि उन सभी अबोध बच्चों की है जो ना चाहते हुए भी आखिरी दम भरते हुए रिश्तों की चक्की में पिस जाते हैं.

बंटी मुश्किल से दसेक वर्ष का है, अपनी माँ के साथ रहता है जो कि एक कॉलेज की प्रधानाचार्या हैं. उसके पिता उन लोगों के साथ नहीं रहते, पर बंटी उनसे बहुत प्रेम करता है. जैसा कि अक्सर विवाह-विच्छेद के समय देखा जाता है, माँ-बाप दोनों ही बालक को एक भरा-पूरा परिवार ना दे सकने की ग्लानि लाड़-प्यार और तोहफों से पूरी करने की कोशिश करते हैं. पिता पहले ही दूसरी शादी कर चुके हैं और माता कहानी के बीच में कर लेती हैं.

सामान्य जीवन में हम सबको लगेगा कि ये सही कदम है, दोनों जनों के लिए. परंतु जब हम बच्चे के दृष्टिकोण से देखें तो पता चलता है कि दुनिया उलट-पलट जाना क्या होता है. ख़ासकर तब जब कोई समझाने वाला ना हो. बंटी के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ. नए रिश्तों को वो समझ ही नहीं पाया और पुराने रिश्ते नए जीवन की शुरूआत में कहीं उसे छोड़ते गए. ऐसा नहीं है कि शकुन अपने बेटे को समझाना चाहती नहीं होंगी, परंतु इतने छोटे बच्चे को क्या बोला जाए, वो शायद ये समझ नहीं पायीं होंगी. माँ के मन के इस बवंडर को और बालक पर पड़ते आघातों को बड़ी ही कुशलता और सवेंदनशीलता से उकेरा है मन्नू जी ने. आज के समय में, जबकी विवाह जैसे रिश्तों की कोई खासी एहमियत नहीं रह गयी है, 'आपका बंटी' एक मार्गदर्शक है. यह सोचकर भी खेद होता है, कि मन्नू जी ने उस समय भी ऐसी स्थिति को समझ लिया था. हिंदी-प्रेमी सभी पाठकों के लिए यह पुस्तक 'मस्ट रीड' होनी ही चाहिए.
Displaying 1 - 30 of 72 reviews

Can't find what you're looking for?

Get help and learn more about the design.