कृष्णा सोबती [Krishna Sobti]


Born
in Gujrat, Punjab, Pakistan
February 18, 1925

Died
January 25, 2019

Genre


कृष्णा सोबती (१८ फ़रवरी १९२५, गुजरात (अब पाकिस्तान में)) हिन्दी की कल्पितार्थ (फिक्शन) एवं निबन्ध लेखिका हैं। उन्हें १९८० में साहित्य अकादमी पुरस्कार तथा १९९६ में साहित्य अकादमी अध्येतावृत्ति से सम्मानित किया गया था। अपनी संयमित अभिव्यक्ति और सुथरी रचनात्मकता के लिए जानी जाती हैं। उन्होंने हिंदी की कथा भाषा को विलक्षण ताज़गी़ दी है। उनके भाषा संस्कार के घनत्व, जीवन्त प्रांजलता और संप्रेषण ने हमारे समय के कई पेचीदा सत्य उजागर किए हैं।

कृष्णा सोबती का जन्म गुजरात में 18 फरवरी 1925 को हुआ था। विभाजन के बाद वे दिल्ली में आकर बस गईं और तब से यही रहकर साहित्य सेवा कर रही हैं। उन्हें 1980 में 'जिन्दी नामा' के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला था। 1996 में उन्हें साहित्य अकादमी का फेलो बनाया गया जो अकादमी का सर्वोच्च सम्मान है। 2017 में इन्हें भारतीय
...more

Average rating: 3.67 · 583 ratings · 74 reviews · 31 distinct worksSimilar authors
मित्रो मरजानी [Mitro Marjani]

3.72 avg rating — 232 ratings — published 2007 — 6 editions
Rate this book
Clear rating
Listen Girl!

by
3.76 avg rating — 76 ratings — published 1991 — 6 editions
Rate this book
Clear rating
A Gujarat Here, a Gujarat T...

3.75 avg rating — 40 ratings2 editions
Rate this book
Clear rating
The Music of Solitude

by
3.51 avg rating — 43 ratings — published 2000 — 5 editions
Rate this book
Clear rating
The Heart Has Its Reasons

by
3.83 avg rating — 41 ratings — published 1993 — 4 editions
Rate this book
Clear rating
ज़िन्दगीनामा

3.30 avg rating — 67 ratings — published 1979 — 9 editions
Rate this book
Clear rating
डार से बिछुड़ी

3.81 avg rating — 21 ratings — published 1958 — 3 editions
Rate this book
Clear rating
सूरजमुखी अँधेरे के

3.75 avg rating — 20 ratings — published 1972 — 3 editions
Rate this book
Clear rating
तिन पहाड़

3.73 avg rating — 11 ratings2 editions
Rate this book
Clear rating
Memory's Daughter

by
liked it 3.00 avg rating — 5 ratings — published 2007
Rate this book
Clear rating
More books by कृष्णा सोबती [Krishna Sobti]…
“शाबाश है बेटी, तेरी शाबाश ! बनवारी की ओर से तो बड़ी सुरखरू हूँ । धन्य है तेरी माँ जन्मनेवाली जिसने तुम्हें जन्म दे इस घर के लिए ऐसा धर्म कमाया”
Krishna Sobti, मित्रो मरजानी