Ramdhari Singh 'Dinkar'

Ramdhari Singh 'Dinkar'


Born
in Simaria, Begusarai district, Bihar, India
September 23, 1908

Died
April 24, 1974

Genre


Ramdhari Singh 'Dinkar' (September 23, 1908 – April 24, 1974) was an Indian Hindi poet, essayist, patriot and academic,[1][2] who is considered as one of the most important modern Hindi poets. He remerged as a poet of rebellion as a consequence of his nationalist poetry written in the days before Indian independence. His poetry exuded veer rasa, and he has been hailed as a Rashtrakavi ("National poet") on account of his inspiring patriotic compositions.[3]

As a mark of respect for him, his portrait was unveiled in the Central Hall of Parliament of India by the Prime Minister of India, Dr. Manmohan Singh on his centenary year, 2008.[4][5] On 23 November 2012, the President of India, Pranab Mukherjee gave away Rashtrakavi Ramdhari Singh 'Dinka
...more

Average rating: 4.52 · 2,032 ratings · 143 reviews · 25 distinct worksSimilar authors
रश्मिरथी

4.68 avg rating — 1,253 ratings — published 1981 — 5 editions
Rate this book
Clear rating
कुरूक्षेत्र

4.32 avg rating — 307 ratings — published 1946
Rate this book
Clear rating
उर्वशी

4.26 avg rating — 167 ratings — published 1994 — 6 editions
Rate this book
Clear rating
संस्‍कृति के चार अध्‍याय

4.38 avg rating — 110 ratings — published 1956 — 5 editions
Rate this book
Clear rating
परशुराम की प्रतीक्षा

4.31 avg rating — 72 ratings — published 2008 — 2 editions
Rate this book
Clear rating
हुंकार

4.02 avg rating — 45 ratings — published 1938 — 2 editions
Rate this book
Clear rating
साहित्य और समाज

4.44 avg rating — 16 ratings — published 2008
Rate this book
Clear rating
चिंतन के आयाम

3.78 avg rating — 18 ratings — published 2008
Rate this book
Clear rating
मिट्टी की ओर

4.14 avg rating — 14 ratings — published 2010 — 2 editions
Rate this book
Clear rating
रामधारी सिंह दिनकर: संकलित ...

by
4.63 avg rating — 8 ratings — published 2008
Rate this book
Clear rating
More books by Ramdhari Singh 'Dinkar'…
“दो न्याय अगर तो आधा दो,

पर, इसमें भी यदि बाधा हो,
तो दे दो केवल पाँच ग्राम,

रक्खो अपनी धरती तमाम।
हम वहीं खुशी से खायेंगे,

परिजन पर असि न उठायेंगे!


दुर्योधन वह भी दे ना सका,

आशिष समाज की ले न सका,
उलटे, हरि को बाँधने चला,

जो था असाध्य, साधने चला।
जन नाश मनुज पर छाता है,

पहले विवेक मर जाता है।


हरि ने भीषण हुंकार किया,

अपना स्वरूप-विस्तार किया,
डगमग-डगमग दिग्गज डोले,

भगवान् कुपित होकर बोले-
'जंजीर बढ़ा कर साध मुझे,

हाँ, हाँ दुर्योधन! बाँध मुझे।


यह देख, गगन मुझमें लय है,

यह देख, पवन मुझमें लय है,
मुझमें विलीन झंकार सकल,

मुझमें लय है संसार सकल।
अमरत्व फूलता है मुझमें,

संहार झूलता है मुझमें।”
Ramdhari Singh 'Dinkar', रश्मिरथी

“प्रासादों के कनकाभ शिखर,
होते कबूतरों के ही घर,
महलों में गरुड़ ना होता है,
कंचन पर कभी न सोता है.
रहता वह कहीं पहाड़ों में,
शैलों की फटी दरारों में.

होकर सुख-समृद्धि के अधीन,
मानव होता निज तप क्षीण,
सत्ता किरीट मणिमय आसन,
करते मनुष्य का तेज हरण.
नर वैभव हेतु लालचाता है,
पर वही मनुज को खाता है.

चाँदनी पुष्प-छाया मे पल,
नर भले बने सुमधुर कोमल,
पर अमृत क्लेश का पिए बिना,
आताप अंधड़ में जिए बिना,
वह पुरुष नही कहला सकता,
विघ्नों को नही हिला सकता.

उड़ते जो झंझावतों में,
पीते जो वारि प्रपातो में,
सारा आकाश अयन जिनका,
विषधर भुजंग भोजन जिनका,
वे ही फानिबंध छुड़ाते हैं,
धरती का हृदय जुड़ाते हैं.”
Ramdhari Singh 'Dinkar', रश्मिरथी

“वसुधा का नेता कौन हुआ?
भूखंड-विजेता कौन हुआ?
अतुलित यश-क्रेता कौन हुआ?
नव-धर्म-प्रणेता कौन हुआ?
जिसने न कभी आराम किया,
विघ्नों में रहकर नाम किया”
Ramdhari Singh 'Dinkar', रश्मिरथी